Home Blog Page 2

Hindu Festival Calendar

Hindu Festivals Month

Hindu festivals calendar is also known as Hindu Vrat and Tyohar calendar. The fasting is known as Vrat or Upavas and festival is known as Tyohar or Parva in the local language. Most Hindu festivals calendar include significant fasting days along with festivals. The twelve months are subdivided into six lunar seasons timed with the agriculture cycles, blooming of natural flowers, fall of leaves, and weather.

Hindu Festivals Month

1. Chaitra

The month of Chaitra is also associated with the coming of Spring, since Holi, the spring festival of colour, is celebrated on the eve of Chaitra (namely, the last day of Phalgun month). Exactly 6 days after which the festival of Chaiti Chhath is observed.
In lunar religious calendars, Chaitra begins with the new moon in March/April and is the first month of the year. The first of Chaitra – is celebrated as New Year’s Day, known as Gudi Padwa in Maharashtra, Chaitrai Vishu and Ugadi in Karnataka and Andhra Pradesh.
Other important festivals in the month are; Ram Navami, the birth anniversary of Lord Ram celebrated on the 9th day of Chaitra, and Hanuman Jayanti that falls on the last day (purnima) of Chaitra.

2. Vaiśākha

The harvest festival of (Baisakhi) is celebrated in this month. Vaisakha Purnima is celebrated as Buddha Purnima or the birthday of Gautama Buddha amongst southern Buddhists or the Theravada school. Purnima refers to the Full Moon. Known in Sinhalese as Vesak, it is observed in the full moon of May

3. Jyaiṣṭha

Vat Pournima is a celebration observed in Maharashtra and Karnataka, India. It is celebrated on the full moon day (the 15th) of the month of Jyeshtha on the Hindu Calendar, which falls in June on the Gregorian Calendar. Women pray for their husbands by tying threads around a banyan tree on this day. It honors Savitri, the legendary wife of Satyavan who escaped death for her husband’s life.
Snana Yatra is a bathing festival celebrated on the Purnima the Hindu month of Jyeshtha. It is an important festival of the Jagannath Cult. The deities Jagannath, Balabhadra, Subhadra, Sudarshan, and Madanmohan are brought out from the Jagannath Temple (Puri) and taken in a procession to the Snana Bedi. They are ceremonially bathed and decorated for a public audience.
Sitalsasthi Carnival is being conducted in this month on the day of Jyeshtha Shuddha Shashthi in Odisha for many centuries

4. Asadha

Guru Purnima, a festival dedicated to the Guru, is celebrated on the Purnima (Full Moon) day of the month. Prior to it Shayani Ekadashi, is observed on the eleventh lunar day (Ekadashi) of the bright fortnight.

5. Sravana

Shravana(jupaka) is considered to be a holy month in the Hindu calendar due to the many festivals that are celebrated during this time. Krishna Janmashtami, marking the birth of Krishna, falls on the 8th day after the full moon. Raksha Bandhan, the festival of brothers and sisters, is celebrated on Shraavana Poornima (Full Moon). This day in Maharashtra is also celebrated as Narali Poornima (Naral in Marathi language means coconut). In the coastal regions of Maharashtra i.e. Konkan, a coconut is offered to the sea for calming it down after the monsoon season. Fishermen now start fishing in the sea after this ceremony. Nag Panchami is also celebrated in many parts of India on the fifth day after Amavasya of Shraavana month. The snake god Nāga is worshiped. The last day of the Shraavana is celebrated as Pola, where the bull is worshiped by farmers from Maharashtra.
In TamilNadu (& also in Kerala) Aadi Amavasaya is celebrated with great importance in all temples. It is an equivalent to Mahalaya Amavasaya of north India.In Karnataka Basava Panchami is celebrated on 5th day after amavasya.
Shravani Mela is a major festival time at Deoghar in Jharkhand with thousands of saffron-clad pilgrims bringing holy water around 100 km on foot from the Ganges at Sultanganj.Shravan is also the time of the annual Kanwar Yatra, the annual pilgrimage of devotees of Shiva, known as Kanwaria make to Hindu pilgrimage places of Haridwar, Gaumukh and Gangotri in Uttarakhand to fetch holy waters of Ganges River

6. Bhādrapada or Bhādra also Proṣṭhapada

Anant Chaturdashi is a Jain religious observance is performed on the fourteenth day (Chaturdashi) of the bright fortnight (Shukla paksha) of Bhadrapad month.
Madhu Purnima (Bengali for ‘honey full-moon’) is a Buddhist festival celebrated in India and Bangladesh, especially in the region of Chittagong. It occurs on the day of the full moon in the month of Bhadro (August/September).

7. Asvina

Several major religious holidays take place in Ashvin, including Durga Puja (6-10 Ashvin), Dasehra (10 Ashvin) and Divali (29 Ashvin), Kojagiri festivals and Kali Puja (new moon of Ashvin),

8. Kartika

The festival of Kartik Poornima (15th day Full Moon) falls in this month, celebrated as Dev Deepavali in Varanasi. This coincides with the nirvana of the Jain Tirthankara – Mahavira and the birth of the Sikh Guru Nanak Guru Nanak Jayanti. And also, the well known festival, for the god of Sabarimalai, Ayyappan’s garland festival.

Amla Navami, Tulsi Vivah , Gopashtami

9. Agrahāyaṇa

Vaikuṇṭha Ekādaśī, the Ekādaśī (i.e. 11th lunar day) of this Mārgaśīṣa month, is celebrated also as Mokṣadā Ekādaśī. The 10th Canto, 22nd Chapter of Bhāgavata Purāṇa, mentions young marriageable daughters (gopis) of the cowherd men of Gokula, worshiping Goddess Kātyāyanī and taking a vrata or vow, during the entire month of Mārgaśīṣa, the first month of the winter season (Śiśira), to get Śrī Kṛṣṇa as their husband.
Kālabhairava Aṣṭamī (or Kālabhairava Jayanti) falls on Kṛṣṇa Pakṣa Aṣṭamī of this month of Mārgaśīṣa. On this day it is said that Lord Śiva appeared on earth in the fierce manifestation (avatāra) as Śrī Kālabhairava. This day is commemorated with special prayers and rituals.

10. Pausa

The harvest festival of Pongal/Makar Sankranti is celebrated on this month.

11. Magha

Vasant Panchami, sometimes referred to as Saraswati Puja, Shree Panchami, or the Festival of Kites is a Sikh and Hindu festival held on the fifth day of Magha (in early February) marking the start of spring and the Holi season. On this day Hindus worship Saraswati, the goddess of knowledge, music, art and culture.
Ratha Saptami or Rathasapthami is a Hindu festival that falls on the seventh day (Saptami) in the bright half (Shukla Paksha) of the Hindu month Maagha. It marks the seventh day following the Sun’s northerly movement (Uttarayana) of vernal equinox starting from Capricorn (Makara).

12. Phalguna

Most parts of North India see early celebration of the famous Hindu festival Holi in this month. Holi is celebrated at the end of the winter season on the last full moon day of the lunar month Phalguna (Phalguna Purnima), which usually falls in the later part of February or March.
The Hindu festival of Shigmo is also celebrated in Goa and Konkan in the month of Phalguna. Celebrations can stretch over a month.

Amanta, Purnimanta systems:

Two traditions have been followed in the Indian subcontinent with respect to lunar months: Amanta tradition which ends the lunar month on no moon day, while Purnimanta tradition which ends it on full moon day.

Amla Navami Vrat Katha | आंवला नवमी की व्रत कथा

Amla Navami

Amla Navami Vrat Kathaआंवला नवमी की व्रत कथा: कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवला नवमी मनाई जाती है। कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आमला (आंवला) नवमी (आंवला वृक्ष की पूजा परिक्रमा), आरोग्य नवमी, अक्षय नवमी, कूष्मांड नवमी के नाम से जाना जाता है। आंवला नवमी को अक्षय नवमी के नाम से भी जाना जाता है। आज के दिन सहपरिवार आंवले के पेड़ की आराधना की जाती है। धार्मिक मान्यता के अनुसार कार्तिक शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को जो कोई आंवले के पेड़ का पूजन परिवार सहित करता है उसे आरोग्य जीवन और सुख-सौभाग्य प्राप्त होता है। मान्यता के अनुसार, इस दिन किया गया तप, जप, दान इत्यादि व्यक्ति को सभी प्रकार के कष्टों से मुक्त करता है। आंवला नवमी की पूजा के दौरान इससे जुड़ी इस कथा को जरूर पढ़ना या सुनना चाहिए। तभी इस पूजा का अक्षय फल भक्तों को प्राप्त होता है।  कहा जाता है कि अगर इस दिन कोई भी शुभ काम किया जाए तो उससे अक्षय फल की प्राप्ति होती है। पूजा के दौरान आंवला नवमी की कथा भी सुनी जाती है। आइए पढ़ते हैं आंवला नवमी की कथा।

आंवला नवमी की कहानी व्रत के समय कही और सुनी जाती है। किसी भी व्रत को रखने के दौरान हमें उस व्रत की कहानी और उसके महत्व का ज्ञान होना जरुरी होता है। तो आइए आज आप भी जानें अक्षय नवमी की व्रत कथा के बारे में।

Amla Navami Vrat Katha

आंवला नवमी की पूजा विधि | Amla Navami ki Puja kaise karein

महिलाओं को इस दिन सुबह जल्दी स्नान करके आंवले के पेड़ के पास जाना चाहिए और उसके आस-पास सफाई करके पेड़ की जड़ में साफ पानी चढ़ाना चाहिए। इसके बाद पेड़ की जड़ में दूध चढ़ाना चाहिए। चढ़ाया हुआ थोड़ा दूध और वो मिट्टी सिर पर लगानी चाहिए। पूजन सामग्रियों से पेड़ की पूजा करें और उसके तने पर कच्चा सूत या मौली 8 परिक्रमा करते हुए लपेटें। कहीं-कहीं 108 परिक्रमा भी की जाती है। पूजन के बाद परिवार और संतान की सुख-समृद्धि की कामना करके पेड़ के नीचे बैठकर परिवार व मित्रों के साथ भोजन ग्रहण करना चाहिए।

Amla Navami ki Puja Vidhi

आंवला नवमी का धार्मिक महत्व | Amla Navami ka Mahatva

आंवला नवमी के दिन ही भगवान विष्णु ने कुष्माण्डक नामक दैत्य को मारा था। आंवला नवमी पर ही भगवान श्रीकृष्ण ने कंस का वध करने से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी। आंवला नवमी पर बहुत से लोग मथुरा- वृंदावन की परिक्रमा करते हैं। संतान प्राप्ति के लिए की गई पूजा पर व्रत भी रखा जाता है और इस दिन रात में भगवान विष्णु को याद करते हुए जगराता किया जाता है

आंवला नवमी की कथा | Amla Navami ki Katha

आंवला नवमी पर आंवले के पेड़ के नीचे पूजा और भोजन करने की प्रथा की शुरुआत माता लक्ष्मी ने की थी। कथा के अनुसार, एक बार मां लक्ष्मी पृथ्वी पर घूमने के लिए आईं। धरती पर आकर मां लक्ष्मी सोचने लगीं कि भगवान विष्णु और शिवजी की पूजा एक साथ कैसे की जा सकती है। तभी उन्हें याद आया कि तुलसी और बेल के गुण आंवले में पाए जाते हैं। तुलसी भगवान विष्णु को और बेल शिवजी को प्रिय है।

Amla Navami ki Katha

उसके बाद मां लक्ष्मी ने आंवले के पेड़ की पूजा करने का निश्चय किया। मां लक्ष्मी की भक्ति और पूजा से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु और शिवजी साक्षात प्रकट हुए। माता लक्ष्मी ने आंवले के पेड़ के नीचे भोजन तैयार करके भगवान विष्णु व शिवजी को भोजन कराया और उसके बाद उन्होंने खुद भी वहीं भोजन ग्रहण किया। मान्यताओं के अनुसार, आंवला नवमी के दिन अगर कोई महिला आंवले के पेड़ की पूजा कर उसके नीचे बैठकर भोजन ग्रहण करती है, तो भगवान विष्णु और शिवजी उसकी सभी इच्छाएं पूर्ण करते हैं। इस दिन महिलाएं अपनी संतना की दीर्घायु तथा अच्छे स्वास्थ्य लेकर कामना करती हैं।

आंवला नवमी की कथा | Akshaya Navami Puja Katha in Hindi -2

एक राज्य में आंवलया नाम का राजा था। राजा ने यह प्रण लिया था कि वह अपनी प्रजा में रोजाना सवा मन आंवला दान करेगा। उसके बाद ही खाना ग्रहण करेगा। राजा अपने प्रण के अनुसार ऐसा ही करता था। लेकिन उसके बेटे और बहु को यह बात पसंद नहीं थी। इसलिए एक दिन उसके बेटे-बहु ने सोचा कि राजा इतने सारे आंवले रोजाना दान करते हैं, इस प्रकार तो एक दिन सारा खजाना खाली हो जायेगा। एक दिन बेटे ने राजा से कहा की उसे इस तरह दान करना बंद कर देना चाहिए। राजकुमार की बात सुनकर राजा को बहुत दुःख हुआ और राजा ने रानी के साथ महल का त्याग कर दिया।  फिर क्या था, राजा आंवला दान नहीं कर पाए और अपने प्रण के कारण कुछ खाया नहीं। जब भूखे प्यासे सात दिन हो गए तब भगवान को उनके ऊपर दया आ गई।
इसलिए भगवान ने, राजा के लिए जंगल में ही महल, राज्य और बाग-बगीचे सब बना दिए और ढेरों आंवले के पेड़ लगा दिए। जब राजा रानी ने यह देखा कि जंगल में उनके राज्य से भी दोगुना राज्य बसा हुआ है। राजा, रानी से कहने लगे रानी देख कहते हैं, कभी भी सत्य का साथ नहीं छोड़ना चाहिए। आओ नहा धोकर आंवला दान करें और भोजन करें। राजा-रानी ने आंवले दान करके खाना खाया और खुशी-खुशी नए महल में रहने लगे। उधर आंवला देवता का अपमान करने व माता-पिता से बुरा व्यवहार करने के कारण राजकुमार के बुरे दिन आ गए।

उसका राज्य शत्रुओं ने छीन लिया। वह दाने-दाने को मोहताज हो गया और काम ढूंढते हुए अपने पिताजी के राज्य में आ पहुंचा। उसकी हालात इतनी बिगड़ी हुई थी कि पिता ने उन्हें बिना पहचाने हुए काम पर रख लिया। बेटे-बहु सोच भी नहीं सकते कि उनके माता-पिता इतने बड़े राज्य के मालिक भी हो सकते हैं सो उन्होंने भी अपने माता-पिता को नहीं पहचाना। एक-दिन बहु ने सास के बाल गूंथते समय उनकी पीठ पर मस्सा देखा। उसे यह सोचकर रोना आने लगा कि ऐसा मस्सा मेरी सास के भी था। हमने ये सोचकर उन्हें आंवले दान करने से रोका था कि हमारा धन नष्ट हो जाएगा। आज वे लोग न जाने कहां होगे ?

यह सोचकर बहु को रोना आने लगा और आंसू टपक टपक कर सास की पीठ पर गिरने लगे। रानी ने तुरंत पलट कर देखा और पूछा कि, तू क्यों रो रही है? उसने बताया आपकी पीठ जैसा मस्सा मेरी सास की पीठ पर भी था। हमने उन्हें आंवले दान करने से मना कर दिया था इसलिए वे घर छोड़कर कहीं चले गए। तब रानी ने उन्हें पहचान लिया। सारा हाल पूछा और अपना हाल बताया। अपने बेटे-बहू को समझाया कि दान करने से धन कम नहीं होता बल्कि बढ़ता है। बेटे-बहु भी अब सुख से राजा-रानी के साथ रहने लगे।

आंवला नवमी की कथा: Mmla Navami ki Kahani-3

आंवला नवमी के दिन एक सेठ ब्राह्मणों को आंवले के पेड़ के नीचे बैठाकर भोजन कराया करते थे। साथ ही उन्हें सोना सदान किया करते थे। यह सब देख सेठ के पुत्रों को अच्छा नहीं लगता था। यह देख वो अपने पिता से बहुत झगड़ा करते थे। रोज-रोज की लड़ाई से तंग आकर वो दूसरे गांव में रहने चला गया। जीवनयापन के लिए उसने वहां एक दुकान लगाई। उसी दुकान के आगे सेठ ने एक आंवले का पेड़ लगाया। कृपा कुछ ऐसी हुई की दुकान खूब चलने लगी।

यहां भी उसने अपना नियम नहीं छोड़ा। वह आंवला नवमी का व्रत-पूजा करता था और ब्राह्मणों को भोजन कराकर दान देता था। वहीं, दूसरी ओर सेठ के पुत्रों का व्यापार ठप हो गया। उनके बेटों को समझ आने लगा कि वो अपने पिता के भाग्य से ही खाते थे। अपनी गलती समझकर वे अपने पिता के पास गए और अपनी गलती की माफी मांगने लगे। फिर पिता के कहे अनुसार उन्होंने आंवले के पेड़ की पूजा करनी शुरू की और दान करने लगे। इसके प्रभाव से सेठ के बेटों के घर पहले की तरह खुशहाली आ गई।

Amla Navami Vrat katha

अक्षय नवमी/ आंवला नवमी / कूष्मांडा नवमी की व्रत कथा -4

काशी नगर में एक नि:संतान धर्मात्मा और दानी वैश्य रहता था. एक दिन वैश्य की पत्नी से एक पड़ोसन बोली यदि तुम किसी पराए बच्चे की बलि भैरव के नाम से चढ़ा दो तुम्हें पुत्र प्राप्त होगा. यह बात जब वैश्य को पता चली तो उससे मना कर दिया लेकिन उसकी पत्नी मौके की तलाश में लगी रही. एक दिन एक कन्या को उसने कुएं में गिराकर भैरो देवता के नाम पर बलि दे दी. इस हत्या का परिणाम विपरीत हुआ. लाभ की बजाय उसके पूरे बदन में कोढ़ हो गया और लड़की की प्रेतात्मा उसे सताने लगी. वैश्य के पूछने पर उसकी पत्नी ने सारी बात बता दी. इस पर वैश्य कहना गोवध, ब्राह्मण वध तथा बाल वध करने वाले के लिए इस संसार में कहीं जगह नहीं है, इसलिए तू गंगातट पर जाकर भगवान का भजन कर गंगा स्नान कर तभी तू इस कष्ट से मुक्ति पा सकती है.

वैश्य की पत्नी गंगा किनारे रहने लगी. कुछ दिन बाद गंगा माता वृद्ध महिला का वेष धारण कर उसके पास आयीं और बोलीं यदि तुम मथुरा जाकर कार्तिक नवमी का व्रत तथा आंवला वृक्ष की परिक्रमा और पूजा करोगी तो ऐसा करने से तेरा यह कोढ़ दूर हो जाएगा. वृद्ध महिला की बात मानकर वैश्य की पत्नी अपने पति से आज्ञा लेकर मथुरा जाकर विधिपूर्वक आंवला का व्रत करने लगी. ऐसा करने से वह भगवान की कृपा से दिव्य शरीर वाली हो गई तथा उसे पुत्र की प्राप्ति भी हुई.

Tulsi Vivah Ki Katha | तुलसी विवाह कथा

Tulsi Vivah Katha

Tulsi Vivah Katha – तुलसी विवाह कथा : कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन तुलसी और भगवान शालिग्राम के विवाह का उत्सव मनाया जाता है। इसे देवउठनी एकादशी, देवोत्थान या देव प्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह होता है। इस दिन तुलसी का भगवान शालिग्राम के साथ विधि विधान से विवाह कराया जाता है। तुलसी विवा के दिन पर भगवान विष्‍णु के अवतार माने जाने वाले शालिग्राम और तुलसी का विवाह कराया जाता है। ये विवाह पूरे रीति-रिवाज के साथ कराया जाता है। तुलसी विवाह के साथ ही सभी मांगलिक कार्यक्रम शुरू हो जाते हैं। मान्यता है कि जो व्यक्ति कन्या सुख से वंचित होते हैं, उनको इस दिन तुलसी विवाह जरूर करना चाहिए, ताकि कन्या दान का फल प्राप्त हो सके।

Tulsi Vivah Katha

Tulsi Vivah is the ceremonial marriage of the Tulsi (holy basil) plant to the Hindu god Shaligram or Vishnu or to his avatar, Sri Krishna. The Tulsi wedding signifies the end of the monsoon and the beginning of the wedding season in Hinduism. The ceremonial festival is performed anytime between Prabodhini Ekadashi (the eleventh or twelfth lunar day of the bright fortnight of the Hindu month of Kartik) and Kartik Poornima (the full moon of the month). The day varies regionally.

Tulsi Vivah Vrat Katha

तुलसी विवाह पूजा विधि : Tulsi Vivah Puja Vidhi

सबसे पहले तुलसी के पौधे को आंगन के बीचों-बीच में रखें और इसके ऊपर भव्य मंडप सजाएं। इसके बाद माता तुलसी पर सुहाग की सभी चीजें जैसे बिंदी, बिछिया,लाल चुनरी आदि चढ़ाएं। इसके बाद विष्णु स्वरुप शालिग्राम को रखें और उन पर तिल चढ़ाए क्योंकि शालिग्राम में चावल नही चढ़ाए जाते है। इसके बाद तुलसी और शालिग्राम जी पर दूध में भीगी हल्दी लगाएं। साथ ही गन्ने के मंडप पर भी हल्दी का लेप करें और उसकी पूजन करें। अगर हिंदू धर्म में विवाह के समय बोला जाने वाला मंगलाष्टक आता है तो वह अवश्य करें। इसके बाद दोनों की घी के दीपक और कपूर से आरती करें और प्रसाद चढ़ाएं।

तुलसी विवाह की कथा | Tulsi Vivah Ki Katha

प्राचीन काल में एक जलंधर नाम का असुर था। जिसका विवाह वृंदा नाम की कन्या से हुआ। वृंदा दैत्यराज हिरणकश्यप-हिरण्याक्ष की सुपौत्री व कालनेमी की पुत्री थी। वृंदा भगवान विष्णु की भक्त थीं। वहीं वृंदा पतिव्रता भी थी। इसी कारण जलंधर अजेय हो गया। वहीं असुर जलंधर को इस बात का घमंड भी हो गया। इसके बाद वह स्वर्ग की कन्याओं को परेशान करने लगा। जब सभी देवता इस बात से दुःखी हो गए तो वह भगवान विष्णु की शरण में पहुंचे।

भगवान विष्णु ने अपनी माया से जलंधर का रूप धारण कर लिया। उन्होंने छल से वृंदा के पतिव्रत धर्म को नष्ट कर दिया। इसके बाद असुर जलंधर की शक्ति क्षीण हो गई। एक युद्ध में जलंधर मारा गया। जब वृंदा को भगवान विष्णु के छल का पता चला तो वो क्रोधित हुईं और उन्होंने भगवान विष्णु को पत्थर का बन जाने का शाप दे दिया। देवताओं की प्रार्थना पर वृंदा ने अपना शाप वापिस तो ले लिया लेकिन भगवान विष्णु अपने किये पर काफी लज्जित थे। अतः वृंदा के शाप को जीवित रखने के लिए उन्होंने अपना एक रूप पत्थर रूप में प्रकट किया जो शालिग्राम कहलाया।

भगवान विष्णु को दिया शाप वापस लेने के बाद वृंदा जलंधर के साथ सती हो गई। वृंदा के राख से तुलसी का पौधा उगा। वृंदा की मर्यादा और पवित्रता को बनाए रखने के लिए देवताओं ने भगवान विष्णु के शालिग्राम रूप का विवाह तुलसी से कराया। बस इसी पौराणिक घटना को याद रखने के लिए हर साल कार्तिक शुक्ल एकादशी यानी देव प्रबोधनी एकादशी के दिन तुलसी का विवाह शालिग्राम के साथ कराया जाता है।

भगवान विष्णु ने वृंदा से कहा कि तुम अगले जन्म में तुलसी के रूप में प्रकट होगी और लक्ष्मी से भी अधिक मेरी प्रिय रहोगी। तुम्हारा स्थान मेरे शीश पर होगा। मैं तुम्हारे बिना भोजन ग्रहण नहीं करूंगा। यही कारण है कि भगवान विष्णु के प्रसाद में तुलसी अवश्य रखा जाता है। बिना तुलसी के अर्पित किया गया प्रसाद भगवान विष्णु स्वीकार नहीं करते हैं।

Tulsi Vivah Katha

तुलसी विवाह व्रत कथा | Tulsi Vivah Vrat Katha -2

तुलसी विवाह के दिन हम आपको तुलसी और गणेश जी से जुड़ी एक कथा बताने जा रहे हैं, जो तुलसी के विवाह प्रस्ताव से जुड़ा है। 

तुलसी करना चाहती थीं गणेश जी से विवाह

एक बार माता तुलसी अपने विवाह की मनोकामना की पूर्ति से तीर्थ यात्रा कर रही थीं। उसी दौरान भगवान गणेश जी गंगा के तट पर तप में लीन थे। इधर माता तुलसी एक एक कर के सभी तीर्थ स्थलों का भ्रमण करती हुई गंगा के उसी तट पर पहुंच गईं, जहां पर विघ्नहर्ता श्री गणेश जी तप में लीन थे। गणेश जी को तप में लीन देखकर माता तुलसी उन पर मोहित हो गईं। उन्होंने गणेश जी का ध्यान भंग कर दिया और उनसे विवाह करने का प्रस्ताव रखा। इस पर गणेश जी क्रोधित हो गए। उन्होंने कहा कि वे ब्रह्मचारी हैं, वे विवाह नहीं कर सकते।

तुलसी ने गणेश जी को दिया श्राप

गणेश जी से विवाह का प्रस्ताव ठुकराए जाने से माता तुलसी क्रोधित हो गईं और उन्होंने गणेश जी को श्राप दे दिया कि उनका दो विवाह होगा। वे दो पत्नियों के स्वामी बनेंगे। बाद में ऋद्धि और सिद्धि उनकी दो पत्नियां बनीं। श्राप के कारण उनका दो विवाह हुआ।

गणेश पूजा में वर्जित हो गईं तुलसी

तुलसी के इस श्राप से गणेश जी फिर क्रोधित हो गए और माता तुलसी को शंखचूड़ नाम के असुर से विवाह होने का श्राप दे दिया। एक राक्षस की पत्नी बनने का श्राप पाकर माता तुलसी ने अपनी गलती के लिए क्षमा याचना की। तब गणेश जी ने उनको आशीर्वाद दिया कि वे भगवान विष्णु तथा श्रीकृष्ण की प्रिय होंगी। कलयुग में तुलसी लोगों के लिए जीवनदायनी होंगी। साथ ही गणपति ने कहा कि आज से उनकी पूजा में तुलसी वर्जित रहेंगी। उनकी पूजा में तुलसी का प्रयोग नहीं होगा।

तुलसी व्रत कथा | Tulsi Vrat Katha in Hindi -3

तुलसी विवाह के संबंध में कई कथाएं प्रचलित हैं। इन्‍हीं में से एक कथा ननद-भाभी की है। कथा मिलती है कि ननद सच्‍चे मन से तुलसी मां की विशेष पूजा करती थी। लेकिन उसकी भाभी को यह सब पसंद नहीं था। वह अक्‍सर ही गुस्‍से में उसे कोसती और कहती कि दहेज में भी वह तुलसी ही देगी। यही नहीं वह बारातियों को खाने में भी तुलसी ही परोसेगी। फिर ननद के विवाह की भी घड़ी आई। भाभी ने बारातियों के सामने तुलसी का गमला तोड़ दिया। ईश्‍वर की कृपा से वह लजीज व्‍यंजन में बदल गया। भाभी को यह रास नहीं आया। तो उन्‍होंने ननद को गहनों की जगह तुलसी की मंजरी पहना दी। क्षणभर में वह सोने के आभूषण में बदल गई। इसके बाद भाभी ने वस्‍त्रों की जगह जनेऊ रख दिया। वह भी रेशमी वस्‍त्रों में बदल गया। उधर ससुराल में भी बहू की बहुत बड़ाई हुई। तब भाभी को भी तुलसी पूजा का महत्‍व समझ आया।

Tulsi Vivah Katha, Tulsi Vivah Ki Katha, Tulsi Vrat Katha, Tulsi Vivah Vrat Katha, Tulsi Ki Katha In Hindi, Tulsi Vrat Katha In Hindi, Tulsi Vivah Katha In Hindi

Tulsi Chalisa: तुलसी चालीसा

Tulsi Maa Aarti : तुलसी माता की आरती

Dharmo Rakshati Rakshitah

Dharmo Rakshati Rakshitah

Dharmo Rakshati Rakshitahधर्मो रक्षति रक्षितः । : A popular Sanskrit phrase from Manusmiriti – it means “Dharma protects the protector”. The saying ‘Dharmo Rakshathi Rakshitaha’ summarizes the importance of protecting dharma. This should be the guiding principle for law makers and law enforcers. Dharmo Rakshati Rakshitah implies that a protected ‘dharma’ protects the protector. Here, ‘dharma’ implies the value system, traditions and culture of a society or group of people.

Dharmo Rakshati Rakshitah

Dharmo Rakshati Rakshitah : Dharma protects them who protect it !

धर्म एव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षितः ⁠।

तस्माद् धर्मं न त्यजामि मा नो धर्मो हतोऽवधीत् ⁠।⁠।⁠ – मनुस्मृति

Dharma Eva Hato Hanti Dharmo Rakshati Rakshitah |
Tasmaaddharmo Na Hantavyah Maano Dharmo Hatovadhit ||

मरा हुआ धर्म मारने वाले का नाश, और रक्षित किया हुआ धर्म रक्षक की रक्षा करता है
इसलिए धर्म का हनन कभी न करना, इस डर से कि मारा हुआ धर्म कभी हमको न मार डाले |

जो पुरूष धर्म का नाश करता है, उसी का नाश धर्म कर देता है, और जो धर्म की रक्षा करता है, उसकी धर्म भी रक्षा करता है ।
इसलिए मारा हुआ धर्म कभी हमको न मार डाले, इस भय से धर्म का हनन अर्थात् त्याग कभी न करना चाहिए ।

Dharma Only Destroys (Those) That Destroy It. Dharma Also Protects Those That Protect It.
Hence, Dharma Should Not Be Destroyed. Know That If Violated, Dharma Destroys Us.

Dharmo Rakshati

What is Dharma?

The closest synonyms for Dharma in English are righteousness and ethics.

Acharya Vishnugupt has stated that a nation doesn’t become a slave of the invaders merely by geopolitical and territorial colonisation. Rather, it is said to be conquered only when it sacrifices its values and customs either under the sword or willingly to the invader. If we are able to preserve and nourish our culture and traditions, by no means we are slaves even when ruled by foreign powers.

The great Indian epics,the Ramayana and the Mahabharata exemplify the spirit of Dharma. The triumph of good(dharma) over evil(adharma) is celebrated in these epics.Rama defeated Ravana and rescued Sita. He established Dharma by killing Ravana,who had committed the adharmic act of abducting Sita. In Mahabharata,the Pandavas defeated the Kauravas to put an end to the rule of Adharma.

In both the Ramayana and the Mahabharata,the evil forces got destroyed as a result of the evil deeds committed by them.They tried to destroy Dharma and get destroyed by it in the process. On the other end,Rama and Pandavas tried to protect Dharma and got protected by it in the end.

In spite of several onslaughts against it, Dharma was not destroyed. Dharma triumphed in the end.

Shri Ram Wallpaper for Mobile

Ram-Mobile-Wallpaper

Shri Ram wallpaper for Mobile: Lord Ram was born in Treta Yuga To Dashrata and Kaushalaya in Ayodhya Lord Ram’s name means Supreme Bliss. He is an 8 incarnation of Lord Vishnu. Rama is referred as Maryada Purushottama, literally the Perfect Man or Lord of Virtue. His wife Sita is considered by Hindus to be an avatar of Lakshmi and the embodiment of perfect womanhood. Lord Rama ruled the kingdom of Ayodhya for eleven thousand years. This golden period is known as “Rama Rajya”. We are here to provide best Shri Ram wallpapers for mobile wallpaper desktop wallpaper in high quality so if you are looking for best Shri Ram wallpaper then you can check out this post for high-quality images. Please find and download Shri Ram Wallpaper for Mobile.

Shri Ram Mobile Wallpaper

Shri Ram Mobile Wallpaper

Lord Ram Mobile Wallpaper

Lord Ram Mobile Wallpaper

Jai Shree Ram HD mobile wallpaper

Jai Shree Ram Mobile

Lord Rama Hd Wallpaper For Mobile

Sri Ram Hd Wallpaper For Mobile

Lord Rama Mobile Wallpaper

Lord Rama Mobile Wallpaper

Ram Wallpaper For Mobile

Ram Wallpaper For Mobile

Vintage Beautiful Lord Raam

Vintage Beautiful Ram

Ram Nawami Mobile Wallpaper

Ram Nawami Mobile Wallpaper

Jai Shri Ram Mobile Wallpaper

Jai Shri Ram Mobile Wallpaper

Shri Ram Mobile Wallpaper

Shri Ram Mobile Wallpaper

Sri Ram Mobile Photo

Sri Ram Mobile Photo

Sri Ram HD Wallpapers, HD pictures, wallpapers and photos. View and download hd Sri Ram images and put Sri Ram HD wallpapers for your mobile, Ram Mobile Wallpaper, Shri Ram Mobile Wallpaper, Ram Hd Wallpaper For Mobile, Shri Ram Mobile Wallpaper

Also Read:

Lord Shri Ram: Mobile Wallpaper, Desktop Wallpaper.

Hanuman Chalisa in Malayalam | ശ്രീ ഹനുമാൻചാലിസാ

Hanuman Chalisa in Malayalam

Hanuman Chalisa in Malayalam: Hanuman Chalisa is one of the most popular Hindu devotional hymns dedicated to Lord Hanuman Composed of 40 verses filled with praises for Lord Hanuman, the Hanuman Chalisa is composed in Avadhi. This dialect of Hindi was spoken in Ayodhya, Lord Rama’s birthplace. Lord Hanuman is known for his devotion to Lord Ram and is considered to be the embodiment of faith, surrender, and devotion. In this article, you will get to read Hanuman Chalisa in Malayalam Lyrics, please feel free to download Hanuman Chalisa PDF in Malayalam and experience the magic of the beautiful hymn.

Hanuman Chalisa in Malayalam

Hanuman Chalisa in Malayalam | ഹനുമാന് ചാലീസാ

ദോഹാ

ശ്രീ ഗുരു ചരണ സരോജ രജ നിജമന മുകുര സുധാരി |
വരണൌ രഘുവര വിമലയശ ജോ ദായക ഫലചാരി ‖
ബുദ്ധിഹീന തനുജാനികൈ സുമിരൌ പവന കുമാര |
ബല ബുദ്ധി വിദ്യാ ദേഹു മോഹി ഹരഹു കലേശ വികാര ‖

ധ്യാനമ്

ഗോഷ്പദീകൃത വാരാശിം മശകീകൃത രാക്ഷസമ് |
രാമായണ മഹാമാലാ രത്നം വംദേ-(അ)നിലാത്മജമ് ‖
യത്ര യത്ര രഘുനാഥ കീര്തനം തത്ര തത്ര കൃതമസ്തകാംജലിമ് |
ഭാഷ്പവാരി പരിപൂര്ണ ലോചനം മാരുതിം നമത രാക്ഷസാംതകമ് ‖

ചൌപാഈ

ജയ ഹനുമാന ജ്ഞാന ഗുണ സാഗര |
ജയ കപീശ തിഹു ലോക ഉജാഗര ‖ 1 ‖

രാമദൂത അതുലിത ബലധാമാ |
അംജനി പുത്ര പവനസുത നാമാ ‖ 2 ‖

മഹാവീര വിക്രമ ബജരംഗീ |
കുമതി നിവാര സുമതി കേ സംഗീ ‖3 ‖

കംചന വരണ വിരാജ സുവേശാ |
കാനന കുംഡല കുംചിത കേശാ ‖ 4 ‖

ഹാഥവജ്ര ഔ ധ്വജാ വിരാജൈ |
കാംഥേ മൂംജ ജനേവൂ സാജൈ ‖ 5‖

ശംകര സുവന കേസരീ നംദന |
തേജ പ്രതാപ മഹാജഗ വംദന ‖ 6 ‖

വിദ്യാവാന ഗുണീ അതി ചാതുര |
രാമ കാജ കരിവേ കോ ആതുര ‖ 7 ‖

പ്രഭു ചരിത്ര സുനിവേ കോ രസിയാ |
രാമലഖന സീതാ മന ബസിയാ ‖ 8‖

സൂക്ഷ്മ രൂപധരി സിയഹി ദിഖാവാ |
വികട രൂപധരി ലംക ജലാവാ ‖ 9 ‖

ഭീമ രൂപധരി അസുര സംഹാരേ |
രാമചംദ്ര കേ കാജ സംവാരേ ‖ 10 ‖

ലായ സംജീവന ലഖന ജിയായേ |
ശ്രീ രഘുവീര ഹരഷി ഉരലായേ ‖ 11 ‖

രഘുപതി കീന്ഹീ ബഹുത ബഡായീ |
തുമ മമ പ്രിയ ഭരത സമ ഭായീ ‖ 12 ‖

സഹസ്ര വദന തുമ്ഹരോ യശഗാവൈ |
അസ കഹി ശ്രീപതി കംഠ ലഗാവൈ ‖ 13 ‖

സനകാദിക ബ്രഹ്മാദി മുനീശാ |
നാരദ ശാരദ സഹിത അഹീശാ ‖ 14 ‖

യമ കുബേര ദിഗപാല ജഹാം തേ |
കവി കോവിദ കഹി സകേ കഹാം തേ ‖ 15 ‖

തുമ ഉപകാര സുഗ്രീവഹി കീന്ഹാ |
രാമ മിലായ രാജപദ ദീന്ഹാ ‖ 16 ‖

തുമ്ഹരോ മംത്ര വിഭീഷണ മാനാ |
ലംകേശ്വര ഭയേ സബ ജഗ ജാനാ ‖ 17 ‖

യുഗ സഹസ്ര യോജന പര ഭാനൂ |
ലീല്യോ താഹി മധുര ഫല ജാനൂ ‖ 18 ‖

പ്രഭു മുദ്രികാ മേലി മുഖ മാഹീ |
ജലധി ലാംഘി ഗയേ അചരജ നാഹീ ‖ 19 ‖

ദുര്ഗമ കാജ ജഗത കേ ജേതേ |
സുഗമ അനുഗ്രഹ തുമ്ഹരേ തേതേ ‖ 20 ‖

രാമ ദുആരേ തുമ രഖവാരേ |
ഹോത ന ആജ്ഞാ ബിനു പൈസാരേ ‖ 21 ‖

സബ സുഖ ലഹൈ തുമ്ഹാരീ ശരണാ |
തുമ രക്ഷക കാഹൂ കോ ഡര നാ ‖ 22 ‖

ആപന തേജ സമ്ഹാരോ ആപൈ |
തീനോം ലോക ഹാംക തേ കാംപൈ ‖ 23 ‖

ഭൂത പിശാച നികട നഹി ആവൈ |
മഹവീര ജബ നാമ സുനാവൈ ‖ 24 ‖

നാസൈ രോഗ ഹരൈ സബ പീരാ |
ജപത നിരംതര ഹനുമത വീരാ ‖ 25 ‖

സംകട സേ ഹനുമാന ഛുഡാവൈ |
മന ക്രമ വചന ധ്യാന ജോ ലാവൈ ‖ 26 ‖

സബ പര രാമ തപസ്വീ രാജാ |
തിനകേ കാജ സകല തുമ സാജാ ‖ 27 ‖

ഔര മനോരധ ജോ കോയി ലാവൈ |
താസു അമിത ജീവന ഫല പാവൈ ‖ 28 ‖

ചാരോ യുഗ പ്രതാപ തുമ്ഹാരാ |
ഹൈ പ്രസിദ്ധ ജഗത ഉജിയാരാ ‖ 29 ‖

സാധു സംത കേ തുമ രഖവാരേ |
അസുര നികംദന രാമ ദുലാരേ ‖ 30 ‖

അഷ്ഠസിദ്ധി നവ നിധി കേ ദാതാ |
അസ വര ദീന്ഹ ജാനകീ മാതാ ‖ 31 ‖

രാമ രസായന തുമ്ഹാരേ പാസാ |
സദാ രഹോ രഘുപതി കേ ദാസാ ‖ 32 ‖

തുമ്ഹരേ ഭജന രാമകോ പാവൈ |
ജന്മ ജന്മ കേ ദുഖ ബിസരാവൈ ‖ 33 ‖

അംത കാല രഘുപതി പുരജായീ |
ജഹാം ജന്മ ഹരിഭക്ത കഹായീ ‖ 34 ‖

ഔര ദേവതാ ചിത്ത ന ധരയീ |
ഹനുമത സേയി സര്വ സുഖ കരയീ ‖ 35 ‖

സംകട ക(ഹ)ടൈ മിടൈ സബ പീരാ |
ജോ സുമിരൈ ഹനുമത ബല വീരാ ‖ 36 ‖

ജൈ ജൈ ജൈ ഹനുമാന ഗോസായീ |
കൃപാ കരഹു ഗുരുദേവ കീ നായീ ‖ 37 ‖

ജോ ശത വാര പാഠ കര കോയീ |
ഛൂടഹി ബംദി മഹാ സുഖ ഹോയീ ‖ 38 ‖

ജോ യഹ പഡൈ ഹനുമാന ചാലീസാ |
ഹോയ സിദ്ധി സാഖീ ഗൌരീശാ ‖ 39 ‖

തുലസീദാസ സദാ ഹരി ചേരാ |
കീജൈ നാഥ ഹൃദയ മഹ ഡേരാ ‖ 40 ‖

ദോഹാ

പവന തനയ സംകട ഹരണ – മംഗള മൂരതി രൂപ് |
രാമ ലഖന സീതാ സഹിത – ഹൃദയ ബസഹു സുരഭൂപ് ‖
സിയാവര രാമചംദ്രകീ ജയ | പവനസുത ഹനുമാനകീ ജയ | ബോലോ ഭായീ സബ സംതനകീ ജയ |

Also Read:

Sri Hanuman Chalisa Lyrics in other languages: Hindi | English | Gujarati | Telugu | Tamil | Kannada | Malayalam | Bengali | Odia | Marathi

Hanuman Chalisa in Marathi | हनुमान चालीसा मराठी

Hanuman Chalisa in Marathi

Hanuman Chalisa in Marathi: Hanuman Chalisa is a devotional song based on Lord Hanuman as the model devotee, it is written by Mahakavi Goswami Tulsidas in the sixteenth century in praise of Lord Hanuman. It is very popular among a lot of modern Hindus and is generally recited on Tuesdays (considered a holy day for devotees of Lord Hanuman). Read Hanuman Chalisa lyrics in Marathi given in PDF, text, image, video format.

हनुमान चालीसा हे भगवान हनुमानाला संबोधित केलेले हिंदू भक्ती स्तोत्र आहे. हे 16 व्या शतकात संत तुळशीदास यांनी लिहिले आहे. हनुमान चालीसा मध्ये सुरवातीचा आणि शेवटचा दोहा सोडून एकंदरीत 40 श्लोक आहेत ज्यांना चौपाई म्हटले जाते. 

Hanuman Chalisa Marathi Lyrics

 दोहा ॥

श्री गुरु चरण सरोज रज निजमन मुकुर सुधारि |
वरणौ रघुवर विमलयश जो दायक फलचारि ‖
बुद्धिहीन तनुजानिकै सुमिरौ पवन कुमार |
बल बुद्धि विद्या देहु मोहि हरहु कलेश विकार ‖

 ध्यानम् 

गोष्पदीकृत वाराशिं मशकीकृत राक्षसम् |
रामायण महामाला रत्नं वंदे-(अ)निलात्मजम् ‖
यत्र यत्र रघुनाथ कीर्तनं तत्र तत्र कृतमस्तकांजलिम् |
भाष्पवारि परिपूर्ण लोचनं मारुतिं नमत राक्षसांतकम् ‖

 चौपाई 

जय हनुमान ज्ञान गुण सागर |
जय कपीश तिहु लोक उजागर ‖ 1 ‖

रामदूत अतुलित बलधामा |
अंजनि पुत्र पवनसुत नामा ‖ 2 ‖

महावीर विक्रम बजरंगी |
कुमति निवार सुमति के संगी ‖3 ‖

कंचन वरण विराज सुवेशा |
कानन कुंडल कुंचित केशा ‖ 4 ‖

हाथवज्र औ ध्वजा विराजै |
कांथे मूंज जनेवू साजै ‖ 5‖

शंकर सुवन केसरी नंदन |
तेज प्रताप महाजग वंदन ‖ 6 ‖

विद्यावान गुणी अति चातुर |
राम काज करिवे को आतुर ‖ 7 ‖

प्रभु चरित्र सुनिवे को रसिया |
रामलखन सीता मन बसिया ‖ 8‖

सूक्ष्म रूपधरि सियहि दिखावा |
विकट रूपधरि लंक जलावा ‖ 9 ‖

भीम रूपधरि असुर संहारे |
रामचंद्र के काज संवारे ‖ 10 ‖

लाय संजीवन लखन जियाये |
श्री रघुवीर हरषि उरलाये ‖ 11 ‖

रघुपति कीन्ही बहुत बडायी |
तुम मम प्रिय भरत सम भायी ‖ 12 ‖

सहस्र वदन तुम्हरो यशगावै |
अस कहि श्रीपति कंठ लगावै ‖ 13 ‖

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीशा |
नारद शारद सहित अहीशा ‖ 14 ‖

यम कुबेर दिगपाल जहां ते |
कवि कोविद कहि सके कहां ते ‖ 15 ‖

तुम उपकार सुग्रीवहि कीन्हा |
राम मिलाय राजपद दीन्हा ‖ 16 ‖

तुम्हरो मंत्र विभीषण माना |
लंकेश्वर भये सब जग जाना ‖ 17 ‖

युग सहस्र योजन पर भानू |
लील्यो ताहि मधुर फल जानू ‖ 18 ‖

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माही |
जलधि लांघि गये अचरज नाही ‖ 19 ‖

दुर्गम काज जगत के जेते |
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ‖ 20 ‖

राम दुआरे तुम रखवारे |
होत न आज्ञा बिनु पैसारे ‖ 21 ‖

सब सुख लहै तुम्हारी शरणा |
तुम रक्षक काहू को डर ना ‖ 22 ‖

आपन तेज सम्हारो आपै |
तीनों लोक हांक ते कांपै ‖ 23 ‖

भूत पिशाच निकट नहि आवै |
महवीर जब नाम सुनावै ‖ 24 ‖

नासै रोग हरै सब पीरा |
जपत निरंतर हनुमत वीरा ‖ 25 ‖

संकट से हनुमान छुडावै |
मन क्रम वचन ध्यान जो लावै ‖ 26 ‖

सब पर राम तपस्वी राजा |
तिनके काज सकल तुम साजा ‖ 27 ‖

और मनोरध जो कोयि लावै |
तासु अमित जीवन फल पावै ‖ 28 ‖

चारो युग प्रताप तुम्हारा |
है प्रसिद्ध जगत उजियारा ‖ 29 ‖

साधु संत के तुम रखवारे |
असुर निकंदन राम दुलारे ‖ 30 ‖

अष्ठसिद्धि नव निधि के दाता |
अस वर दीन्ह जानकी माता ‖ 31 ‖

राम रसायन तुम्हारे पासा |
सदा रहो रघुपति के दासा ‖ 32 ‖

तुम्हरे भजन रामको पावै |
जन्म जन्म के दुख बिसरावै ‖ 33 ‖

अंत काल रघुपति पुरजायी |
जहां जन्म हरिभक्त कहायी ‖ 34 ‖

और देवता चित्त न धरयी |
हनुमत सेयि सर्व सुख करयी ‖ 35 ‖

संकट क(ह)टै मिटै सब पीरा |
जो सुमिरै हनुमत बल वीरा ‖ 36 ‖

जै जै जै हनुमान गोसायी |
कृपा करहु गुरुदेव की नायी ‖ 37 ‖

जो शत वार पाठ कर कोयी |
छूटहि बंदि महा सुख होयी ‖ 38 ‖

जो यह पडै हनुमान चालीसा |
होय सिद्धि साखी गौरीशा ‖ 39 ‖

तुलसीदास सदा हरि चेरा |
कीजै नाथ हृदय मह डेरा ‖ 40 ‖

 दोहा 

पवन तनय संकट हरण – मंगळ मूरति रूप् |
राम लखन सीता सहित – हृदय बसहु सुरभूप् ‖
सियावर रामचंद्रकी जय | पवनसुत हनुमानकी जय | बोलो भायी सब संतनकी जय |

Hanuman Chalisa in Marathi

Also Read:

Sri Hanuman Chalisa Lyrics in other languages: Hindi | English | Gujarati | Telugu | Tamil | Kannada | Malayalam | Bengali | Odia | Marathi

Hanuman Chalisa in Odia | ଶ୍ରୀ ହନୁମାନ ଚାଳିଶ

Hanuman Chalisa in Odia

The Hanuman Chalisa (chalisa means 40 verses) is a devotional stotra/hymn for Lord Hanuman. It is believed that reciting Sri Hanuman Chalisa on every Tuesday and Saturday will destroys all obstacles in life. Here is the complete Odia lyrics of Hanuman Chalisa. Every Hindu should recite Hanuman Chalisa daily. For those who wants to read Hanuman Chalisa in Odia/Oria language can now download images, pdf, video etc from this page. In this page, please find the lyrics for Hanuman Chalisa in Odia, MP3 song and PDF file for downloads.

Shree Hanuman Chalisa (Oriya)

Hanuman Chalisa in Odia/Oriya

Hanuman Chalisa in Odia/Oriya

 ଦୋହା ॥

ଶ୍ରୀ ଗୁରୁ ଚରଣ ସରୋଜ ରଜ ନିଜମନ ମୁକୁର ସୁଧାରି |
ଵରଣୌ ରଘୁଵର ଵିମଲଯଶ ଜୋ ଦାଯକ ଫଲଚାରି ‖
ବୁଦ୍ଧିହୀନ ତନୁଜାନିକୈ ସୁମିରୌ ପଵନ କୁମାର |
ବଲ ବୁଦ୍ଧି ଵିଦ୍ଯା ଦେହୁ ମୋହି ହରହୁ କଲେଶ ଵିକାର ‖

 ଧ୍ଯାନମ୍ ॥

ଗୋଷ୍ପଦୀକୃତ ଵାରାଶିଂ ମଶକୀକୃତ ରାକ୍ଷସମ୍ |
ରାମାଯଣ ମହାମାଲା ରତ୍ନଂ ଵଂଦେ-(ଅ)ନିଲାତ୍ମଜମ୍ ‖
ଯତ୍ର ଯତ୍ର ରଘୁନାଥ କୀର୍ତନଂ ତତ୍ର ତତ୍ର କୃତମସ୍ତକାଂଜଲିମ୍ |
ଭାଷ୍ପଵାରି ପରିପୂର୍ଣ ଲୋଚନଂ ମାରୁତିଂ ନମତ ରାକ୍ଷସାଂତକମ୍ ‖

 ଚୌପାଈ ॥

ଜଯ ହନୁମାନ ଜ୍ଞାନ ଗୁଣ ସାଗର |
ଜଯ କପୀଶ ତିହୁ ଲୋକ ଉଜାଗର ‖ 1 ‖

ରାମଦୂତ ଅତୁଲିତ ବଲଧାମା |
ଅଂଜନି ପୁତ୍ର ପଵନସୁତ ନାମା ‖ 2 ‖

ମହାଵୀର ଵିକ୍ରମ ବଜରଂଗୀ |
କୁମତି ନିଵାର ସୁମତି କେ ସଂଗୀ ‖3 ‖

କଂଚନ ଵରଣ ଵିରାଜ ସୁଵେଶା |
କାନନ କୁଂଡଲ କୁଂଚିତ କେଶା ‖ 4 ‖

ହାଥଵଜ୍ର ଔ ଧ୍ଵଜା ଵିରାଜୈ |
କାଂଥେ ମୂଂଜ ଜନେଵୂ ସାଜୈ ‖ 5‖

ଶଂକର ସୁଵନ କେସରୀ ନଂଦନ |
ତେଜ ପ୍ରତାପ ମହାଜଗ ଵଂଦନ ‖ 6 ‖

ଵିଦ୍ଯାଵାନ ଗୁଣୀ ଅତି ଚାତୁର |
ରାମ କାଜ କରିଵେ କୋ ଆତୁର ‖ 7 ‖

ପ୍ରଭୁ ଚରିତ୍ର ସୁନିଵେ କୋ ରସିଯା |
ରାମଲଖନ ସୀତା ମନ ବସିଯା ‖ 8‖

ସୂକ୍ଷ୍ମ ରୂପଧରି ସିଯହି ଦିଖାଵା |
ଵିକଟ ରୂପଧରି ଲଂକ ଜଲାଵା ‖ 9 ‖

ଭୀମ ରୂପଧରି ଅସୁର ସଂହାରେ |
ରାମଚଂଦ୍ର କେ କାଜ ସଂଵାରେ ‖ 10 ‖

ଲାଯ ସଂଜୀଵନ ଲଖନ ଜିଯାଯେ |
ଶ୍ରୀ ରଘୁଵୀର ହରଷି ଉରଲାଯେ ‖ 11 ‖

ରଘୁପତି କୀନ୍ହୀ ବହୁତ ବଡାଯୀ |
ତୁମ ମମ ପ୍ରିଯ ଭରତ ସମ ଭାଯୀ ‖ 12 ‖

ସହସ୍ର ଵଦନ ତୁମ୍ହରୋ ଯଶଗାଵୈ |
ଅସ କହି ଶ୍ରୀପତି କଂଠ ଲଗାଵୈ ‖ 13 ‖

ସନକାଦିକ ବ୍ରହ୍ମାଦି ମୁନୀଶା |
ନାରଦ ଶାରଦ ସହିତ ଅହୀଶା ‖ 14 ‖

ଯମ କୁବେର ଦିଗପାଲ ଜହାଂ ତେ |
କଵି କୋଵିଦ କହି ସକେ କହାଂ ତେ ‖ 15 ‖

ତୁମ ଉପକାର ସୁଗ୍ରୀଵହି କୀନ୍ହା |
ରାମ ମିଲାଯ ରାଜପଦ ଦୀନ୍ହା ‖ 16 ‖

ତୁମ୍ହରୋ ମଂତ୍ର ଵିଭୀଷଣ ମାନା |
ଲଂକେଶ୍ଵର ଭଯେ ସବ ଜଗ ଜାନା ‖ 17 ‖

ଯୁଗ ସହସ୍ର ଯୋଜନ ପର ଭାନୂ |
ଲୀଲ୍ଯୋ ତାହି ମଧୁର ଫଲ ଜାନୂ ‖ 18 ‖

ପ୍ରଭୁ ମୁଦ୍ରିକା ମେଲି ମୁଖ ମାହୀ |
ଜଲଧି ଲାଂଘି ଗଯେ ଅଚରଜ ନାହୀ ‖ 19 ‖

ଦୁର୍ଗମ କାଜ ଜଗତ କେ ଜେତେ |
ସୁଗମ ଅନୁଗ୍ରହ ତୁମ୍ହରେ ତେତେ ‖ 20 ‖

ରାମ ଦୁଆରେ ତୁମ ରଖଵାରେ |
ହୋତ ନ ଆଜ୍ଞା ବିନୁ ପୈସାରେ ‖ 21 ‖

ସବ ସୁଖ ଲହୈ ତୁମ୍ହାରୀ ଶରଣା |
ତୁମ ରକ୍ଷକ କାହୂ କୋ ଡର ନା ‖ 22 ‖

ଆପନ ତେଜ ସମ୍ହାରୋ ଆପୈ |
ତୀନୋଂ ଲୋକ ହାଂକ ତେ କାଂପୈ ‖ 23 ‖

ଭୂତ ପିଶାଚ ନିକଟ ନହି ଆଵୈ |
ମହଵୀର ଜବ ନାମ ସୁନାଵୈ ‖ 24 ‖

ନାସୈ ରୋଗ ହରୈ ସବ ପୀରା |
ଜପତ ନିରଂତର ହନୁମତ ଵୀରା ‖ 25 ‖

ସଂକଟ ସେ ହନୁମାନ ଛୁଡାଵୈ |
ମନ କ୍ରମ ଵଚନ ଧ୍ଯାନ ଜୋ ଲାଵୈ ‖ 26 ‖

ସବ ପର ରାମ ତପସ୍ଵୀ ରାଜା |
ତିନକେ କାଜ ସକଲ ତୁମ ସାଜା ‖ 27 ‖

ଔର ମନୋରଧ ଜୋ କୋଯି ଲାଵୈ |
ତାସୁ ଅମିତ ଜୀଵନ ଫଲ ପାଵୈ ‖ 28 ‖

ଚାରୋ ଯୁଗ ପ୍ରତାପ ତୁମ୍ହାରା |
ହୈ ପ୍ରସିଦ୍ଧ ଜଗତ ଉଜିଯାରା ‖ 29 ‖

ସାଧୁ ସଂତ କେ ତୁମ ରଖଵାରେ |
ଅସୁର ନିକଂଦନ ରାମ ଦୁଲାରେ ‖ 30 ‖

ଅଷ୍ଠସିଦ୍ଧି ନଵ ନିଧି କେ ଦାତା |
ଅସ ଵର ଦୀନ୍ହ ଜାନକୀ ମାତା ‖ 31 ‖

ରାମ ରସାଯନ ତୁମ୍ହାରେ ପାସା |
ସଦା ରହୋ ରଘୁପତି କେ ଦାସା ‖ 32 ‖

ତୁମ୍ହରେ ଭଜନ ରାମକୋ ପାଵୈ |
ଜନ୍ମ ଜନ୍ମ କେ ଦୁଖ ବିସରାଵୈ ‖ 33 ‖

ଅଂତ କାଲ ରଘୁପତି ପୁରଜାଯୀ |
ଜହାଂ ଜନ୍ମ ହରିଭକ୍ତ କହାଯୀ ‖ 34 ‖

ଔର ଦେଵତା ଚିତ୍ତ ନ ଧରଯୀ |
ହନୁମତ ସେଯି ସର୍ଵ ସୁଖ କରଯୀ ‖ 35 ‖

ସଂକଟ କ(ହ)ଟୈ ମିଟୈ ସବ ପୀରା |
ଜୋ ସୁମିରୈ ହନୁମତ ବଲ ଵୀରା ‖ 36 ‖

ଜୈ ଜୈ ଜୈ ହନୁମାନ ଗୋସାଯୀ |
କୃପା କରହୁ ଗୁରୁଦେଵ କୀ ନାଯୀ ‖ 37 ‖

ଜୋ ଶତ ଵାର ପାଠ କର କୋଯୀ |
ଛୂଟହି ବଂଦି ମହା ସୁଖ ହୋଯୀ ‖ 38 ‖

ଜୋ ଯହ ପଡୈ ହନୁମାନ ଚାଲୀସା |
ହୋଯ ସିଦ୍ଧି ସାଖୀ ଗୌରୀଶା ‖ 39 ‖

ତୁଲସୀଦାସ ସଦା ହରି ଚେରା |
କୀଜୈ ନାଥ ହୃଦଯ ମହ ଡେରା ‖ 40 ‖

 ଦୋହା ॥

ପଵନ ତନଯ ସଂକଟ ହରଣ – ମଂଗଳ ମୂରତି ରୂପ୍ |
ରାମ ଲଖନ ସୀତା ସହିତ – ହୃଦଯ ବସହୁ ସୁରଭୂପ୍ ‖
ସିଯାଵର ରାମଚଂଦ୍ରକୀ ଜଯ | ପଵନସୁତ ହନୁମାନକୀ ଜଯ | ବୋଲୋ ଭାଯୀ ସବ ସଂତନକୀ ଜଯ |

Also Read:

Sri Hanuman Chalisa Lyrics in other languages: Hindi | English | Gujarati | Telugu | Tamil | Kannada | Malayalam | Bengali | Odia | Marathi

Hanuman Chalisa in Tamil | ஸ்ரீ ஹனுமன் சாலிசா

Hanuman Chalisa in Tamil

Hanuman Chalisa literally ‘Hanuman Forty’ is a song in praise of Hanuman composed in the sixteenth century AD in Avadhi (a language that is one of the main roots of Hindi) by the renowned saint-poet Goswami Tulasi Das. Among the most popular of Hindu prayers the Chalisa is sung and chanted in hundreds of extant tunes across the villages and towns of India. For those who wants to read Hanuman Chalisa in Tamil language can now download images, pdf, video etc from this page. In this page, please find the lyrics for Hanuman Chalisa in Tamil, MP3 song and PDF file for downloads.

Hanuman Chalisa in Tamil Video

Hanuman Chalisa in Tamil

Hanuman Chalisa Lyrics in Tamil

 தோ3ஹா 

ஶ்ரீ கு3ரு சரண ஸரோஜ ரஜ நிஜமந முகுர ஸுதா4ரி |
வரணௌ ரகு4வர விமலயஶ ஜோ தா3யக ப2லசாரி ‖
பு3த்3தி4ஹீந தநுஜாநிகை ஸுமிரௌ பவந குமார |
3ல பு3த்3தி4 வித்3யா தே3ஹு மோஹி ஹரஹு கலேஶ விகார ‖

 த்4யாநம் 

கோ3ஷ்பதீ3க்ருத வாராஶிம் மஶகீக்ருத ராக்ஷஸம் |
ராமாயண மஹாமாலா ரத்நம் வந்தே3-(அ)நிலாத்மஜம் ‖
யத்ர யத்ர ரகு4நாத2 கீர்தநம் தத்ர தத்ர க்ருதமஸ்தகாஂஜலிம் |
பா4ஷ்பவாரி பரிபூர்ண லோசநம் மாருதிம் நமத ராக்ஷஸாந்தகம் ‖

 சௌபாஈ 

ஜய ஹநுமாந ஜ்ஞாந கு3ண ஸாக3ர |
ஜய கபீஶ திஹு லோக உஜாக3ர ‖ 1 ‖

ராமதூ3த அதுலித ப3லதா4மா |
அஂஜநி புத்ர பவநஸுத நாமா ‖ 2 ‖

மஹாவீர விக்ரம பஜ3ரங்கீ3 |
குமதி நிவார ஸுமதி கே ஸங்கீ3 ‖3 ‖

கஂசந வரண விராஜ ஸுவேஶா |
காநந குண்ட3ல குஂசித கேஶா ‖ 4 ‖

ஹாத2வஜ்ர ஔ த்4வஜா விராஜை |
காந்தே2 மூஂஜ ஜநேவூ ஸாஜை ‖ 5‖

ஶஂகர ஸுவந கேஸரீ நந்த3ந |
தேஜ ப்ரதாப மஹாஜக3 வந்த3ந ‖ 6 ‖

வித்3யாவாந கு3ணீ அதி சாதுர |
ராம காஜ கரிவே கோ ஆதுர ‖ 7 ‖

ப்ரபு4 சரித்ர ஸுநிவே கோ ரஸியா |
ராமலக2ந ஸீதா மந ப3ஸியா ‖ 8‖

ஸூக்ஷ்ம ரூபத4ரி ஸியஹி தி3கா2வா |
விகட ரூபத4ரி லஂக ஜலாவா ‖ 9 ‖

பீ4ம ரூபத4ரி அஸுர ஸம்ஹாரே |
ராமசந்த்3ர கே காஜ ஸம்வாரே ‖ 1௦ ‖

லாய ஸஂஜீவந லக2ந ஜியாயே |
ஶ்ரீ ரகு4வீர ஹரஷி உரலாயே ‖ 11 ‖

ரகு4பதி கீந்ஹீ ப3ஹுத ப3டா3யீ |
தும மம ப்ரிய ப4ரத ஸம பா4யீ ‖ 12 ‖

ஸஹஸ்ர வத3ந தும்ஹரோ யஶகா3வை |
அஸ கஹி ஶ்ரீபதி கண்ட2 லகா3வை ‖ 13 ‖

ஸநகாதி3க ப்3ரஹ்மாதி3 முநீஶா |
நாரத3 ஶாரத3 ஸஹித அஹீஶா ‖ 14 ‖

யம குபே3ர தி33பால ஜஹாம் தே |
கவி கோவித3 கஹி ஸகே கஹாம் தே ‖ 15 ‖

தும உபகார ஸுக்3ரீவஹி கீந்ஹா |
ராம மிலாய ராஜபத3 தீ3ந்ஹா ‖ 16 ‖

தும்ஹரோ மந்த்ர விபீ4ஷண மாநா |
லஂகேஶ்வர ப4யே ஸப3 ஜக3 ஜாநா ‖ 17 ‖

யுக3 ஸஹஸ்ர யோஜந பர பா4நூ |
லீல்யோ தாஹி மது4ர ப2ல ஜாநூ ‖ 18 ‖

ப்ரபு4 முத்3ரிகா மேலி முக2 மாஹீ |
ஜலதி4 லாங்கி4 க3யே அசரஜ நாஹீ ‖ 19 ‖

து3ர்க3ம காஜ ஜக3த கே ஜேதே |
ஸுக3ம அநுக்3ரஹ தும்ஹரே தேதே ‖ 2௦ ‖

ராம து3ஆரே தும ரக2வாரே |
ஹோத ந ஆஜ்ஞா பி3நு பைஸாரே ‖ 21 ‖

ஸப3 ஸுக2 லஹை தும்ஹாரீ ஶரணா |
தும ரக்ஷக காஹூ கோ ட3ர நா ‖ 22 ‖

ஆபந தேஜ ஸம்ஹாரோ ஆபை |
தீநோம் லோக ஹாஂக தே காம்பை ‖ 23 ‖

பூ4த பிஶாச நிகட நஹி ஆவை |
மஹவீர ஜப3 நாம ஸுநாவை ‖ 24 ‖

நாஸை ரோக3 ஹரை ஸப3 பீரா |
ஜபத நிரந்தர ஹநுமத வீரா ‖ 25 ‖

ஸஂகட ஸே ஹநுமாந சு2டா3வை |
மந க்ரம வசந த்4யாந ஜோ லாவை ‖ 26 ‖

ஸப3 பர ராம தபஸ்வீ ராஜா |
திநகே காஜ ஸகல தும ஸாஜா ‖ 27 ‖

ஔர மநோரத4 ஜோ கோயி லாவை |
தாஸு அமித ஜீவந ப2ல பாவை ‖ 28 ‖

சாரோ யுக3 ப்ரதாப தும்ஹாரா |
ஹை ப்ரஸித்34 ஜக3த உஜியாரா ‖ 29 ‖

ஸாது4 ஸந்த கே தும ரக2வாரே |
அஸுர நிகந்த3ந ராம து3லாரே ‖ 3௦ ‖

அஷ்ட2ஸித்3தி4 நவ நிதி4 கே தா3தா |
அஸ வர தீ3ந்ஹ ஜாநகீ மாதா ‖ 31 ‖

ராம ரஸாயந தும்ஹாரே பாஸா |
ஸதா3 ரஹோ ரகு4பதி கே தா3ஸா ‖ 32 ‖

தும்ஹரே பஜ4ந ராமகோ பாவை |
ஜந்ம ஜந்ம கே து32 பி3ஸராவை ‖ 33 ‖

அந்த கால ரகு4பதி புரஜாயீ |
ஜஹாம் ஜந்ம ஹரிப4க்த கஹாயீ ‖ 34 ‖

ஔர தே3வதா சித்த ந த4ரயீ |
ஹநுமத ஸேயி ஸர்வ ஸுக2 கரயீ ‖ 35 ‖

ஸஂகட க(ஹ)டை மிடை ஸப3 பீரா |
ஜோ ஸுமிரை ஹநுமத ப3ல வீரா ‖ 36 ‖

ஜை ஜை ஜை ஹநுமாந கோ3ஸாயீ |
க்ருபா கரஹு கு3ருதே3வ கீ நாயீ ‖ 37 ‖

ஜோ ஶத வார பாட2 கர கோயீ |
சூ2டஹி ப3ந்தி3 மஹா ஸுக2 ஹோயீ ‖ 38 ‖

ஜோ யஹ படை3 ஹநுமாந சாலீஸா |
ஹோய ஸித்3தி4 ஸாகீ2 கௌ3ரீஶா ‖ 39 ‖

துலஸீதா3ஸ ஸதா3 ஹரி சேரா |
கீஜை நாத2 ஹ்ருத3ய மஹ டே3ரா ‖ 4௦ ‖

 தோ3ஹா 

பவந தநய ஸஂகட ஹரண – மங்க3ல்த3 மூரதி ரூப் |
ராம லக2ந ஸீதா ஸஹித – ஹ்ருத3ய ப3ஸஹு ஸுரபூ4ப் ‖
ஸியாவர ராமசந்த்3ரகீ ஜய | பவநஸுத ஹநுமாநகீ ஜய | போ3லோ பா4யீ ஸப3 ஸந்தநகீ ஜய |

It is believed that reciting Hanuman Chalisa is very powerful to ward off evil spirits and also bring good health and prosperity. Moreover, Hanuman Chalisa recitation can also help ward off spirits. The best time to recite Hanuman Chalisa is in the morning and at night. Download the PDF of Hanuman Chalisa Lyrics in Tamil.

Aanjaneya Chalisa Tamil , Hanuman Chalisa Lyrics in Tamil, Shree Hanuman Chalisa Lyrics in Tamil

Also Read:

Sri Hanuman Chalisa Lyrics in other languages: Hindi | English | Gujarati | Telugu | Tamil | Kannada | Malayalam | Bengali | Odia | Marathi

Hanuman Chalisa in Kannada | ಶ್ರೀ ಹನುಮಾನ್ ಚಾಲೀಸ

Hanuman Chalisa in Kannada

Hanuman chalisa is Hindu devotional Stotra it is written by Tulsidas. This stotra literally is addressed to lord Hanuman. Hanuman Chalisa Kannada and make you day and life blissful and cherish the best moments of your life with Hanuman Ji across your side all the time to help you out. For those who wants to read Hanuman Chalisa in Kannada language can now download images, pdf, video etc from this page. In this page, please find the lyrics for Hanuman Chalisa in Kannada, MP3 song and PDF file for downloads.

Hanuman Chalisa in Kannada Video

Hanuman Chalisa in Kannada

Hanuman Chalisa in Kannada Lyrics

 ದೋಹಾ ॥

ಶ್ರೀ ಗುರು ಚರಣ ಸರೋಜ ರಜ ನಿಜಮನ ಮುಕುರ ಸುಧಾರಿ |
ವರಣೌ ರಘುವರ ವಿಮಲಯಶ ಜೋ ದಾಯಕ ಫಲಚಾರಿ ‖
ಬುದ್ಧಿಹೀನ ತನುಜಾನಿಕೈ ಸುಮಿರೌ ಪವನ ಕುಮಾರ |
ಬಲ ಬುದ್ಧಿ ವಿದ್ಯಾ ದೇಹು ಮೋಹಿ ಹರಹು ಕಲೇಶ ವಿಕಾರ ‖

 ಧ್ಯಾನಮ್ ॥

ಗೋಷ್ಪದೀಕೃತ ವಾರಾಶಿಂ ಮಶಕೀಕೃತ ರಾಕ್ಷಸಮ್ |
ರಾಮಾಯಣ ಮಹಾಮಾಲಾ ರತ್ನಂ ವಂದೇ-(ಅ)ನಿಲಾತ್ಮಜಮ್ ‖
ಯತ್ರ ಯತ್ರ ರಘುನಾಥ ಕೀರ್ತನಂ ತತ್ರ ತತ್ರ ಕೃತಮಸ್ತಕಾಂಜಲಿಮ್ |
ಭಾಷ್ಪವಾರಿ ಪರಿಪೂರ್ಣ ಲೋಚನಂ ಮಾರುತಿಂ ನಮತ ರಾಕ್ಷಸಾಂತಕಮ್ ‖

 ಚೌಪಾಈ ॥

ಜಯ ಹನುಮಾನ ಜ್ಞಾನ ಗುಣ ಸಾಗರ |
ಜಯ ಕಪೀಶ ತಿಹು ಲೋಕ ಉಜಾಗರ ‖ 1 ‖

ರಾಮದೂತ ಅತುಲಿತ ಬಲಧಾಮಾ |
ಅಂಜನಿ ಪುತ್ರ ಪವನಸುತ ನಾಮಾ ‖ 2 ‖

ಮಹಾವೀರ ವಿಕ್ರಮ ಬಜರಂಗೀ |
ಕುಮತಿ ನಿವಾರ ಸುಮತಿ ಕೇ ಸಂಗೀ ‖3 ‖

ಕಂಚನ ವರಣ ವಿರಾಜ ಸುವೇಶಾ |
ಕಾನನ ಕುಂಡಲ ಕುಂಚಿತ ಕೇಶಾ ‖ 4 ‖

ಹಾಥವಜ್ರ ಔ ಧ್ವಜಾ ವಿರಾಜೈ |
ಕಾಂಥೇ ಮೂಂಜ ಜನೇವೂ ಸಾಜೈ ‖ 5‖

ಶಂಕರ ಸುವನ ಕೇಸರೀ ನಂದನ |
ತೇಜ ಪ್ರತಾಪ ಮಹಾಜಗ ವಂದನ ‖ 6 ‖

ವಿದ್ಯಾವಾನ ಗುಣೀ ಅತಿ ಚಾತುರ |
ರಾಮ ಕಾಜ ಕರಿವೇ ಕೋ ಆತುರ ‖ 7 ‖

ಪ್ರಭು ಚರಿತ್ರ ಸುನಿವೇ ಕೋ ರಸಿಯಾ |
ರಾಮಲಖನ ಸೀತಾ ಮನ ಬಸಿಯಾ ‖ 8‖

ಸೂಕ್ಷ್ಮ ರೂಪಧರಿ ಸಿಯಹಿ ದಿಖಾವಾ |
ವಿಕಟ ರೂಪಧರಿ ಲಂಕ ಜಲಾವಾ ‖ 9 ‖

ಭೀಮ ರೂಪಧರಿ ಅಸುರ ಸಂಹಾರೇ |
ರಾಮಚಂದ್ರ ಕೇ ಕಾಜ ಸಂವಾರೇ ‖ 10 ‖

ಲಾಯ ಸಂಜೀವನ ಲಖನ ಜಿಯಾಯೇ |
ಶ್ರೀ ರಘುವೀರ ಹರಷಿ ಉರಲಾಯೇ ‖ 11 ‖

ರಘುಪತಿ ಕೀನ್ಹೀ ಬಹುತ ಬಡಾಯೀ |
ತುಮ ಮಮ ಪ್ರಿಯ ಭರತ ಸಮ ಭಾಯೀ ‖ 12 ‖

ಸಹಸ್ರ ವದನ ತುಮ್ಹರೋ ಯಶಗಾವೈ |
ಅಸ ಕಹಿ ಶ್ರೀಪತಿ ಕಂಠ ಲಗಾವೈ ‖ 13 ‖

ಸನಕಾದಿಕ ಬ್ರಹ್ಮಾದಿ ಮುನೀಶಾ |
ನಾರದ ಶಾರದ ಸಹಿತ ಅಹೀಶಾ ‖ 14 ‖

ಯಮ ಕುಬೇರ ದಿಗಪಾಲ ಜಹಾಂ ತೇ |
ಕವಿ ಕೋವಿದ ಕಹಿ ಸಕೇ ಕಹಾಂ ತೇ ‖ 15 ‖

ತುಮ ಉಪಕಾರ ಸುಗ್ರೀವಹಿ ಕೀನ್ಹಾ |
ರಾಮ ಮಿಲಾಯ ರಾಜಪದ ದೀನ್ಹಾ ‖ 16 ‖

ತುಮ್ಹರೋ ಮಂತ್ರ ವಿಭೀಷಣ ಮಾನಾ |
ಲಂಕೇಶ್ವರ ಭಯೇ ಸಬ ಜಗ ಜಾನಾ ‖ 17 ‖

ಯುಗ ಸಹಸ್ರ ಯೋಜನ ಪರ ಭಾನೂ |
ಲೀಲ್ಯೋ ತಾಹಿ ಮಧುರ ಫಲ ಜಾನೂ ‖ 18 ‖

ಪ್ರಭು ಮುದ್ರಿಕಾ ಮೇಲಿ ಮುಖ ಮಾಹೀ |
ಜಲಧಿ ಲಾಂಘಿ ಗಯೇ ಅಚರಜ ನಾಹೀ ‖ 19 ‖

ದುರ್ಗಮ ಕಾಜ ಜಗತ ಕೇ ಜೇತೇ |
ಸುಗಮ ಅನುಗ್ರಹ ತುಮ್ಹರೇ ತೇತೇ ‖ 20 ‖

ರಾಮ ದುಆರೇ ತುಮ ರಖವಾರೇ |
ಹೋತ ನ ಆಜ್ಞಾ ಬಿನು ಪೈಸಾರೇ ‖ 21 ‖

ಸಬ ಸುಖ ಲಹೈ ತುಮ್ಹಾರೀ ಶರಣಾ |
ತುಮ ರಕ್ಷಕ ಕಾಹೂ ಕೋ ಡರ ನಾ ‖ 22 ‖

ಆಪನ ತೇಜ ಸಮ್ಹಾರೋ ಆಪೈ |
ತೀನೋಂ ಲೋಕ ಹಾಂಕ ತೇ ಕಾಂಪೈ ‖ 23 ‖

ಭೂತ ಪಿಶಾಚ ನಿಕಟ ನಹಿ ಆವೈ |
ಮಹವೀರ ಜಬ ನಾಮ ಸುನಾವೈ ‖ 24 ‖

ನಾಸೈ ರೋಗ ಹರೈ ಸಬ ಪೀರಾ |
ಜಪತ ನಿರಂತರ ಹನುಮತ ವೀರಾ ‖ 25 ‖

ಸಂಕಟ ಸೇ ಹನುಮಾನ ಛುಡಾವೈ |
ಮನ ಕ್ರಮ ವಚನ ಧ್ಯಾನ ಜೋ ಲಾವೈ ‖ 26 ‖

ಸಬ ಪರ ರಾಮ ತಪಸ್ವೀ ರಾಜಾ |
ತಿನಕೇ ಕಾಜ ಸಕಲ ತುಮ ಸಾಜಾ ‖ 27 ‖

ಔರ ಮನೋರಧ ಜೋ ಕೋಯಿ ಲಾವೈ |
ತಾಸು ಅಮಿತ ಜೀವನ ಫಲ ಪಾವೈ ‖ 28 ‖

ಚಾರೋ ಯುಗ ಪ್ರತಾಪ ತುಮ್ಹಾರಾ |
ಹೈ ಪ್ರಸಿದ್ಧ ಜಗತ ಉಜಿಯಾರಾ ‖ 29 ‖

ಸಾಧು ಸಂತ ಕೇ ತುಮ ರಖವಾರೇ |
ಅಸುರ ನಿಕಂದನ ರಾಮ ದುಲಾರೇ ‖ 30 ‖

ಅಷ್ಠಸಿದ್ಧಿ ನವ ನಿಧಿ ಕೇ ದಾತಾ |
ಅಸ ವರ ದೀನ್ಹ ಜಾನಕೀ ಮಾತಾ ‖ 31 ‖

ರಾಮ ರಸಾಯನ ತುಮ್ಹಾರೇ ಪಾಸಾ |
ಸದಾ ರಹೋ ರಘುಪತಿ ಕೇ ದಾಸಾ ‖ 32 ‖

ತುಮ್ಹರೇ ಭಜನ ರಾಮಕೋ ಪಾವೈ |
ಜನ್ಮ ಜನ್ಮ ಕೇ ದುಖ ಬಿಸರಾವೈ ‖ 33 ‖

ಅಂತ ಕಾಲ ರಘುಪತಿ ಪುರಜಾಯೀ |
ಜಹಾಂ ಜನ್ಮ ಹರಿಭಕ್ತ ಕಹಾಯೀ ‖ 34 ‖

ಔರ ದೇವತಾ ಚಿತ್ತ ನ ಧರಯೀ |
ಹನುಮತ ಸೇಯಿ ಸರ್ವ ಸುಖ ಕರಯೀ ‖ 35 ‖

ಸಂಕಟ ಕ(ಹ)ಟೈ ಮಿಟೈ ಸಬ ಪೀರಾ |
ಜೋ ಸುಮಿರೈ ಹನುಮತ ಬಲ ವೀರಾ ‖ 36 ‖

ಜೈ ಜೈ ಜೈ ಹನುಮಾನ ಗೋಸಾಯೀ |
ಕೃಪಾ ಕರಹು ಗುರುದೇವ ಕೀ ನಾಯೀ ‖ 37 ‖

ಜೋ ಶತ ವಾರ ಪಾಠ ಕರ ಕೋಯೀ |
ಛೂಟಹಿ ಬಂದಿ ಮಹಾ ಸುಖ ಹೋಯೀ ‖ 38 ‖

ಜೋ ಯಹ ಪಡೈ ಹನುಮಾನ ಚಾಲೀಸಾ |
ಹೋಯ ಸಿದ್ಧಿ ಸಾಖೀ ಗೌರೀಶಾ ‖ 39 ‖

ತುಲಸೀದಾಸ ಸದಾ ಹರಿ ಚೇರಾ |
ಕೀಜೈ ನಾಥ ಹೃದಯ ಮಹ ಡೇರಾ ‖ 40 ‖

 ದೋಹಾ ॥

ಪವನ ತನಯ ಸಂಕಟ ಹರಣ – ಮಂಗಳ ಮೂರತಿ ರೂಪ್ |
ರಾಮ ಲಖನ ಸೀತಾ ಸಹಿತ – ಹೃದಯ ಬಸಹು ಸುರಭೂಪ್ ‖
ಸಿಯಾವರ ರಾಮಚಂದ್ರಕೀ ಜಯ | ಪವನಸುತ ಹನುಮಾನಕೀ ಜಯ | ಬೋಲೋ ಭಾಯೀ ಸಬ ಸಂತನಕೀ ಜಯ |

Hanuman Chalisa in Kannada Image -ಹನುಮಾನ್ ಚಾಲೀಸಾ

Hanuman Chalisa in Kannada

This post contains Hanuman Chalisa in Kannada, PDF, Lyrics, Video, Download. Kannada Hanuman Chalisa. ಹನುಮಾನ್ ಚಾಲಿಸಾ. Hanuman chalisa in kannada lyrics, Hanuman chalisa in kannada audio, Hanuman chalisa lyrics in kannada, Hanuman chalisa in kannada pdf

Also Read:

Sri Hanuman Chalisa Lyrics in other languages: Hindi | English | Gujarati | Telugu | Tamil | Kannada | Malayalam | Bengali | Odia | Marathi

Popular

Hanuman Chalisa in Hindi

Shri Hanuman Chalisa Hindi Wallpaper

Shri Hanuman Chalisa Hindi Wallpaper We all know that the Shri Hanuman Chalisa is one of the Holy Chant that we can all use in...

Latest Articles

aaditya hriday stotra meaning

Aditya Hridaya Stotra with Meaning

The Aditya Hridayam Stotram is dedicated to Surya Dev (Hindu Sun God). It is one of the most powerful mantras in Hinduism for acheiving...